क्या आपके हाथ में है सरस्वती योग,जानें हस्त रेखा विज्ञान से

0
37

हस्त रेखा विज्ञान का महत्व जीवन में बहुत है.हस्त रेखा विज्ञान के माध्यम से मनुष्य भविष्य के बारे में सचेत होकर सही गलत का निर्णय ले सकता है.हथेली में अनेक प्रकार की रेखाएं पाई जाती हैं जिनमें मुख्य रेखाएं जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा व ह्रदय रेखा होतीं हैं इसके अलावा भी अनेक प्रकार की रेखाएं पायीं जाती हैं.हथेली की प्रत्येक रेखा भविष्य का कोई न कोई संकेत देती है.यह रेखाएं मिलकर हथेली में योगों का निर्माण करती हैं,इन्ही योगों में से एक योग सरस्वती योग होता है.सेकड़ों तरह के योग इन रेखाओं के द्वारा निर्मित होते हैं व हर योग का हथेली में अपना महत्व होता है. इन योगों द्वारा भविष्य की संभावनाओं का पता लगाया जा सकता है व भविष्य के बारे में सावधान होया जा सकता है.आइये जानते हैं कि सरस्वती योग क्या होता है?

क्या आपका भाग्य जागेगा विवाह के बाद,जानें हस्त रेखा विज्ञान से

सरस्वती योग:

यदि किसी जातक की हथेली में चन्द्र व गुरू पर्वत उन्नत हों तथा चन्द्र पर्वत से कोई रेखा गुरू पर्वत पर पहुँचती हो तो उस जातक की हथेली में सरस्वती योग होता है.जैसा कि नीचे चित्र में दिखाया गया है.

सरस्वती योग
सरस्वती योग

सरस्वती योग जिन लोगों के हाथ में होता है ,उन पर सरस्वती देवी की विशेष कृपा होती है .ऐसे जातक काव्य,संगीत,नृत्य आदि क्षेत्रों में बहुत पारंगत होते हैं.अपनी कला के माध्यम से ऐसे जातक देश विदेश में सम्मान अर्जित करते हैं.ऐसे जातकों पर सरस्वती देवी के अलावा लक्ष्मी की भी विशेष कृपा होती है.ऐसे जातक सहृदय स्वभाव के होते हैं और गरीबों,दुखिओं और निर्धनों की सेवा को तैयार रहते हैं.ऐसा योग जिस जातक के हाथ में होता है,यह संसार ही उसके लिए स्वर्ग के समान होता है.आप भी देख लीजिये कि आपके या आपके सगे सम्बन्धी के हाथ में यह योग बन रहा है या नहीं.इसे देखकर आप भविष्य का सही अंदाजा लगा सकते हैं.

आप आर्टिकल को निम्न वीडिओ में देख व सुन सकते हैं:

कृपया लाइक,शेयर ,कमेन्ट व फोलो करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here