डिप्रेशन के लक्षण,कारण व बचाव के तरीके

0
82

आजकल की भागदौड़ भरी जिन्दगी में डिप्रेशन एक आम समस्या है.डिप्रेशन मुख्यतया दिमाग की वह स्थिति होती है जिसमें व्यक्ति घोर अवसाद अथवा उदासीनता की अवस्था में पहुँच जाता है व यह उदासीनता उसके आमजीवन को प्रभावित करती है.

अमेरिका के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेंटल हेल्थ के सर्वे के अनुसार लगभग अमेरिका के लगभग 19 मिलियन व्यस्क कोई न कोई डिप्रेशन के शिकार हर वर्ष होते हैं व इनमें से 12 मिलियन संख्या महिलाओं की होती है.डिप्रेशन की समस्या सभी वर्ग व सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करती है.

डिप्रेशन के मुख्य लक्षण निम्न हैं:

(1)झुंझलाहट,चिड़चिड़ापन या बेचैनी होना

(2)ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में असमर्थता

(3)अनिद्रा या बहुत ज्यादा सोना

(4)भूख कम या ज्यादा लगना,वजन में बदलाव होना,

(5)थकान महसूस करना

(6)सरदर्द रहना

(7) रोने की इच्छा करना

(8)निराशा महसूस करना व समाज से कटा हुआ महसूस करना

(9)मृत्यु के विचार आना

(10)आत्महत्या के विचार आना

डिप्रेशन के कारण:

डिप्रेशन के सही कारणों का अब तक सही से पता नहीं चल पाया है पर वैज्ञानिकों के अनुसार डिप्रेशन आनुवंशिक, जैविक, पर्यावरण, और मनोवैज्ञानिक कारकों के संयोजन के कारण होता है.जैसे किसी व्यक्ति के ममुताबिक परिस्तिथियाँ न होने पर वह डिप्रेशन में जा सकता है.

डिप्रेशन का इलाज:

मेडिकल साइंस में डिप्रेशन के इलाज के लिए एंटीडिप्रेसेंट्स पिल दी जाती हैं जो दिमाग के रसायनों में परिवर्तन करके व्यक्ति का मूड अच्छा करती हैं.परन्तु ज्यादातर लोग डिप्रेशन का इलाज नहीं कराते व बिना इलाज के ही रह जाते हैं.

आशा है आपको आर्टिकल पसंद आया होगा.कृपया शेयर,लाइक व कमेन्ट करें.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here